Connect with us

love status

Holi wishes 2020

Published

on

holiwishes-wishestatus.com

होली भारत का और ख़ासतौर से हिन्दुओ एक प्रमुख त्यौहार है जिसे हर धर्म में का व्यक्ति मनाता है| होली सब लोग साथ मिलकर खूब हर्ष और उल्लास के साथ अपने परिवार व दोस्तों के साथ मनाते हैं| इस दिन सभी लोग अपने सारे गिले, शिकवे भुला कर एक दुसरे से गले मिलते हैं,गुलाल लगते है और मिठाई खिलाते हैं इस दिन सब लोग एक दूसरे को त्यौहार की बधाई या शुभकामनाये देते है
इसीलिए हम आप सब के लिए होली के ऊपर कुछ विशेष,happy holi wishes, Best Holi Wishes in Hindi, holi wishes 2020 ,holi images,स्टेटस, holi wishes in hindi,holi greetings,happy holi quotes,Holi ki badhai sandesh sms in Hindi,in english,in gujarati, in marathi, in punjabi,in kannada, होली पर बधाई सन्देश के बारे में जानकारी देंगे साथ ही आपको ये भी बतायेगे की होली कैसे मनाते है, होली का महत्व क्या है, होलिका कौन थी | हमे उम्मीद है की आपको हमारी वेबसाइट wishestatus.com पसंद आएगी |

Best Holi Wishes

" अपनों से अपनों को मिलाती है होली खुशियों के रंग लाती है होली बरसों से बिछड़ें हैं जो उन सबको मिलाती है होली मेरी तरफ से आप सबको हैप्पी होली "

" होली का गुलाल हो रंगो की बहार हो गुंजिया की मिठास हो सबके दिलों में प्यार हो ऐसा होली का त्यौहार हो होली मुबारक हो "

" होली त्यौहार है रंग और भांग का हम सब यारों का घर में आये मेहमानों का गली में गली वालों का मोहल्ले में मौहल्ले वालों का देश में देशवालों का बुरा ना मानो होली है "

holi-wishes-2020

" प्यार के रंग से भरो पिचकारी स्नेह के रंग से रंग दो दुनिया सारी ये रंग ना जाने जात ना कोई बोली मुबारक हो आपको होली "

Holi Date 2020

लोगो के मम में उत्सुकता रहती है की होली कितनी तारीख को है| Holi 2020 date यानी की होली पर्व इस साल 10 मार्च 2020 को मनाया जाएगा और धुलेंडी का त्यौहार 9 मार्च 2020, को मनाया जाएगा|

Holi ke badhai Sandesh | होली के बधाई सन्देश

" राधा का रंग और कान्हा की पिचकारी प्यार के रंग से रंग दो दुनिया सारी यह रंग ना जाने कोई जात ना कोई बोली मुबारक हो आपको रंगों भारी होली "

" प्यार के रंगों से भरो पिचकारी स्नेह के रंगों से रंग दो दुनिया सारी ये रंग न जाने न कोई जात न बोली सबको हो मुबारक ये हैप्पी होली "

Happy Holi in Bengla

" Rat Sundor Chand Utle, Din Sundor Surjo Utle, Sopno Sundor Puron Hole, Jibon Sundor Tumar Moto Bondhu Thakle Happy Holi & Suvo Dol Jatra.. "

Holi wishes in Marathi

" रंग प्रेमाचा, रंग स्नेहाचा रंग नात्यांचा, रंग बंधाचा रंग हर्षाचा, रंग उल्हासाचा रंग नव्या उत्सावाचा साजरा करू होळी संगे होळीच्या हार्दिक शुभेच्छा "

" खमंग पुरणपोळीचा आस्वाद घेण्याआधी, रंगामध्ये रंगून जाण्याआधी, होळीच्या धुरामध्ये हरवून जाण्याआधी, पौर्णिमेचा चंद्र उगवण्याआधी, तुम्हाला मी व माझ्या परिवारातर्फे, होळीच्या हार्दिक शुभेच्छा! "

holi-wishes-quotes

Holi Quotes

" “May the colors of Holi make your life as colorful and happy as they are.” ― Wish you a very Happy Holi "

" “The more the color, the more the sweets, and the happier you be. Happy Holi” "

होली(Holi) कैसे मनाते है

होली (Holi) वसंत ऋतु में मनाया जाने वाला भारतीयो का एक महत्वपूर्ण त्यौहार है 

होली से पहले दिन को होलिका जलायी जाती है, जिसे होलिका दहन भी कहा जाता है। दूसरे दिन, जिसे धुलेंडी भी कहते है इस दिन लोग एक दूसरे को रंग, अबीर-गुलाल इत्यादि लगते हैं, और ढोल व गीत बजा कर होली का जशन मनाते हैं

होलिका दहन से पहले विधिवत उसकी पूजा की जाती है। इसमें रोली,अक्षत, चंदन, हल्दी, गुलाल, फुल,जल, सुपारी,गूलरी की माला आदि सामग्री का इस्तेमाल किया जाता है।  पूजा करते समय जो व्यक्ति पूजा कर रहा है उसका मुख पूर्व या उत्तर दिशा की ओर होना चाहिए। इसके बाद होलिका की तीन या सात परिक्रमा करते हुए गेहूं की बाली को आग में जलाकर कर इसका प्रसाद सभी को वितरित करें।

Holi kyu manai jati hai

होली का त्योहार मनाने के पीछे एक सबसे प्रसिद्ध कहानी है प्रह्लाद की। कथा के अनुसार इस पर्व को मनाने की शुरुआत भी वही से हुई थी।प्राचीन काल में हिरण्यकशिपु नाम का एक अत्यंत बलशाली असुर था। उसने आपने राज्य में ईश्वर का नाम लेने पर पाबंदी लगा रखी थी, किन्तु उसका पुत्र प्रह्लाद भगवान विष्णु का अनन्य भक्त था। प्रह्लाद की ईश्वरीय भक्ति से हिरण्यकश्यप नाखुश था । इसी बात को लेकर उसने अपने पुत्र को कई यातनए दी की प्रह्लाद प्रभु की भक्ति छोड़ दे , किन्तु भक्त प्रह्लाद ने प्रभु की भक्ति करना नहीं छोड़ा।

अंत में हिरण्यकश्यप ने अपने पुत्र की हत्या की योजना बनाई। हिरण्यकशिपु की बहन होलिका को वरदान था कि वो अग्नि में भस्म नहीं हो सकती।
हिरण्यकशिपु ने अपनी बहन को आदेश दिया कि होलिका तुम प्रह्लाद को गोद में लेकर आग में बैठ जाना | उसका ये आदेश सुनकर होलिका की गोद में प्रह्लाद को बैठाकर अग्नि में बाठ गयी। किन्तु आग में बैठने पर होलिका तो जल गई, पर प्रह्लाद का बाल भी बाक़ा नहीं हुआ। तभी से इस पर्व को मनाने की प्रथा शुरू हुई।

Holi Songs 2020

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Facebook

Adv

Trending

error: Content is protected !!