Connect with us

Stories

7+ [Best] Hindi Moral Stories

Published

on

hindi-moral-stories

Hindi Moral Stories:-दोस्तों आज हम अपनी website के माध्यम से आपको एक प्रेणादायक कहानी से अवगत करायेगे | जिसका आपकी दिनचर्या पर बहुत ही सकरात्मक प्रभाव पड़ेगा साथ ही ये hindi stories आपके लिए प्रेणादायक भी साबित होगी | हमारे द्वारा प्रस्तुत कहानिया बहुत ही रोचक और ज्ञानवर्धक होती है जिससे पढ़कर आपको न केवल कुछ न कुछ सिखने को अवश्य मिलेगा बल्कि पढ़ने में भी आनंद आएगा |

(Hindi Moral Stories) chintu ki dar par vijay

chintu-ki-dar-par-vijay-hindi-moral-stories
hindi moral stories

धामपुर गाँव में चिंटू नाम का लड़का अपनी माँ के साथ रहता था, वो 10th क्लास में पढता था

वह बहुत ही शर्मीला था और कभी भी किसी प्रोग्राम या फंक्शन में भाग नहीं लेता था. चिंटू को गाना गाना पसंद था और अपने music teacher के साथ इस की रोज practice किया करता था.

लेकिन फिर भी वह अपनी माँ और टीचर को छोड़ कर किसी और के सामने गाना गाने से डरता था.

उस के स्कूल में Annual Day होने जा रहा था. कार्यक्रम के आयोजकों ने विचार किया कि क्यों न event का समापन जोरदार musical performance के साथ किया जाए.

उन्होंने म्यूजिक टीचर से कहा कि गायकों का audition लो.

चिंटू ऑडिशन में भाग लेने से दर रहा था और इसलिए वह लाइन में सब से पीछे खड़ा था.

म्यूजिक टीचर जानते थे कि चिंटू , audition भाग लेने से डरता है और इस ऑडिशन से बच रहा है .

वह उस के पास गए और पूछा, “चिंटू , तुम इस इवेंट में भाग लेने से क्यों गबरा रहे हो ? तुम्हारी आवाज तो बहुत ही सुरीली है.”

चिंटू ने उत्तर दिया : “सर, आज मेरा गला खराब है. मुझे नहीं लगता में गाना गाने में सफल हो पाऊंगा,”.

म्यूजिक टीचर ने कहा: “ठीक है, तुम्हारी जैसी इच्छा है. पर मैं यह जानता हूं कि तुम एक बहुत अच्छे गायक हो और तुम ये कर सकते हो ,” और इतना कह कर वो वह से चले गए.

चिंटू अपने म्यूजिक टीचर को दुखी नहीं देखना चाहता था, इसलिए वह भी उन के पीछे-पीछे गया और बोला, “सर, मई आपको यूँ निराश नहीं देख सकता कृपया आप मेरा नाम भी ऑडिशन में लिख दीजिए.”

म्यूजिक टीचर मुसकराए और उस का नाम भी लिस्ट में जोड़ दिया.

जब चिंटू की बारी आई तो उसे अपनी क्लास के सामने गाना था. वह बहुत ही घबराया हुआ था और जैसे ही वह खड़ा हुआ सभी स्टूडेंट उसे घूरने लगे .

उस ने गाने के लिए जैसे ही पहली लाइन गुनगुनानी चाही, उस की आवाज हकला गई. उस ने बहुत प्रयास किया पर उस हकलाहट को ठीक करने में सफल न हो सका, उसने तुरंत gaana बंद कर दिया.और वह अब आगे नहीं गा सकता था और ये भी नहीं जानता था की अब आगे क्या करना चाइये.

अचानक lunch break की घंटी बज गई और चिंटू को वहाँ से भागने का मौका मिल गया जो की वह चहां भी रहा था .

अपने लंच बॉक्स को लेने के लिए चिंटू अपनी seat की ओर भाग खढा हुआ, लेकिन इस से पहले कि वह वहाँ से बाहर जा पाता,

उसके म्यूजिक टीचर ने उसे वापस आने को कहा.

जब सब चले गए तब चिंटू अपने टीचर के पास आया और उन्हें देखे बगैर बड़ी ही मासूमियत से बोला, “सॉरी सर, मैं बिलकुल नहीं गा सकता.”

“चिंटू तुम इस बात की बिलकुल भी चिंता मत करो. मैं जानता हूं कि तुम लोगों के सामने घबरा गए थे, लेकिन तुम मेरी बात याद रखना तुम्हें अपने डर को एक चुनौती के रूप में लेना होगा,

जो दूर हो जाएगा. अपने डर को कभी भी आपने ऊपर इतना हावी न होने दो.”

चिंटू ने अपनी गलती मानते हुए कहा: “लेकिन सर, मैं इतना डर जाता हूं कि सोचता हूं अगर मैं शब्द भूल गया तो क्या होगा?

क्या होगा जब किसी को आवाज ही पसंद नहीं आयी या मेरे गाने का तरीका ही पसंद नहीं आया तो ?”

चिंटू को हिम्मत देते हुए उसके टीचर ने कहा: “मैं तुम्हारे डर को समझ सकता हूं, लेकिनअगर तुम गाने का प्रयास ही नहीं करोगे , तो कुछ कैसे जान सकोगे.

जब तुम गाना गाओगे तो तुम्हें अपने सवालो के जवाब खुद पे खुद मिल जाएंगे,”

चिंटू ने अपना सिर हिलाते हुआ कहा जी सर, और उसका मन भी कह रहा था की म्यूजिक टीचर सही कह रहे थे, लेकिन वह अभी भी बहुत डरा हुआ था.

म्यूजिक टीचर ने पूछा: “Annual Day वाले दिन मैं तुम्हें मंच पर ले जाऊं तो कैसा रहेगा?”

चिंटू को लगा कि वही अकेला मंच पर perform नहीं करेगा, उसके साथ और भी बच्चे perform करेंगे.

उस ने कहा, “यह बहुत अच्छा रहेगा सर, फिर हम कब प्रैक्टिस शुरू करें?”

टीचर ने कहा: “कल से”

फिर चिंटू ने अगले दिन से रोज practice करना शुरू किया. अब event वाले दिन चिंटू और उसके टीचर मंच पर आए और वहाँ बैठे लोगो ने उन का जोरदार welcome किया,

लेकिन चिंटू अब भी घबराया हुआ था. टीचर ने उस से कहा कि सिर्फ कागज़ पर ध्यान लगाए रखना.

यह जान कर कि टीचर उसके पास खडे हैं.

चिंटू ने gaana शुरू किया. उसे सर भी उसका साथ दे रहे थे |

जब उन्होंने दूसरा गाना gaana शुरू किया तो चिंटू अपनी आँखें बंद किए हुए था वो गाने में इतना डूब गया कि उसे पता ही नहीं चला कि कब उसके सर उसे मंच पर अकेला छोड़ कर चले गए.

उस ने पूरा गाना अकेले गाया और अच्छी performance दी.

जब उस ने आँखें खोली तो देखा कि सब लोग खड़े हो गए थे और उस की performance पर तालियां बजा कर उसे शाबाशी दे रहे थे.

जब चिंटू ने अपने चारों ओर देखा तो टीचर को मंच के बगल में मुसकराते हुए खड़ा पाया तो वह Speechless रह गया.

हर कोई चिंटू का अभिवादन कर रहा था और वह काफी खुश था. उसने जोरदार मुसकान के साथ सभी का अभिवादन सुकार किया और धन्यवाद कहा

अब वो यह बात समझ गया था कि परफॉरमेंस के बीच में ही उसके सर उसे मंच पर अकेला छोड़ कर क्यों चले गए थे.

वह उनके पास गया और बोला, “सर, प्रोतसहित करने के लिए आप का कोटि-कोटि धन्यवाद.”

टीचर ने कहा: “में तोह पहले से ही जानता था तुम्हारे अंदर उत्साह और हुनर पहले से था, बस उसे सिर्फ बाहर निकालने की जरूरत थी,”

अब चिंटू का जो डर था वो लोगों के सामने गाने से दूर हो चुका था. उसने अपने डर पर विजय पा ली थी. और अब वह बहुत खुश था.

जब उस ने आँखें खोली तो देखा कि सब लोग खड़े हो गए थे और उस की performance पर तालियां बजा कर उसे शाबाशी दे रहे थे.

म्यूजिक टीचर ने कहा: “में तो पहले से ही जानता था तुम्हारे अंदर वो हुनर है, बस उसे सिर्फ बाहर निकालने की जरूरत थी,”

जब चिंटू ने अपने चारों ओर देखा तो टीचर को मंच के बगल में मुसकराते हुए खड़ा पाया तो वह Speechless रह गया.

हर कोई चिंटू का अभिवादन कर रहा था और वह काफी खुश था.

उसने जोरदार मुसकान के साथ सभी का अभिवादन सुकार किया और धन्यवाद कहा

अब वो यह बात समझ गया था कि परफॉरमेंस के बीच में ही उसके सर उसे मंच पर अकेला छोड़ कर क्यों चले गए थे.

वह उनके पास गया और बोला, “सर, प्रोतसहित करने के लिए आप का कोटि-कोटि धन्यवाद.”

अब चिंटू का जो डर था वो लोगों के सामने गाने से दूर हो चुका था.

Facebook

Adv

Trending

error: Content is protected !!